24.1 C
Madhya Pradesh
April 13, 2024
Bundeli Khabar
Home » भ्रष्टाचारियों के लिए वरदान साबित हो रही जनपद पंचायत सीईओ अंजना नागर
मध्यप्रदेश

भ्रष्टाचारियों के लिए वरदान साबित हो रही जनपद पंचायत सीईओ अंजना नागर

सुरेश रजक/बिजावर

बिजावर।  जनपद पंचायत में जनपद पंचायत सीईओ अंजना नागर के आते ही होने लगे भ्रष्टाचार जनपद पंचायत सीईओ अपने कार्य और पद को लेकर गंभीर नहीं है वहीं पिछले 6 माह की बात की जाए तो भ्रष्टाचार के कई मामले सामने आये है जनप्रतिनिधियों ने इसके खिलाफ आवाज भी उठाई है और निष्पक्ष जाँच कर दोषियों पर सख्त कार्यवाही की मांग की है ताजा मामला जल शक्ति अभियान और मतदाता जागरूकता अभियान के तहत ग्राम पंचायतों से होने बाले भुगतान में भारी भ्रष्टाचार किया गया है एक ही योजना अन्तर्गत कराये गये दीवाल लेखन में ग्राम पंचायतों में अलग अलग राशि का भुगतान किया गया जबकि दीवाल लेखन किये बिना या एक या दो जगह लेखन करा के 6 हजार से लेकर 20 हजार रुपये तक के बिल लगाकर भुगतान किये गए जो नियम विरुद्ध है जब पत्रकारों द्वारा इसकी पडताल की गई तो कई चौंकाने बाले तथ्य सामने आये है कई सरपंचों ने नाम ना छापने की शर्त पर बताया कि एक कथित कम्प्यूटर ऑपरेटर ने सरपंचो को खुद के पास से बिल भुगतान करने काे दिऐ और अधिकारी के नाम की धोंस देकर भुगतान कराया गया सरपंच और सचिवों को धमकी दी गई थी कि अगर ऐसा नहीं किया तो एक भी भुगतान नही किये जांयेंगे जब भ्रष्टाचार के मामले से संबंधित आरटीआई के माध्यम से जब जानकारी चाही गई तब उसके जबाब में लोक सूचना अधिकारी जनपद पंचायत बिजावर द्वारा जारी किये गए पत्र में कहा गया बांछित जानकारी संबंधी कोई आदेश पत्र कार्यालय से जारी नहीं किया गया ग्राम पंचायतों में लेखन कार्य हेतु कोई पत्र जारी नहीं किया गया एवं किसी कंपनी को कोई आदेश नहीं दिया गया। अगर यह सही है तो फिर लाखों के भुगतान किस आधार पर करा दिए गए और कथित कम्प्यूटर ऑपरेटर द्वारा किसके इशारे पर यह बिल लगाकर जनपद कार्यालय से भुगतान कर दिए गये। जबकि इसी मामले के बिलों की संदिग्धता को देखते हुए कई ग्राम पंचायतों ने बिल लगाने से इंकार कर दिया कहा गया, दर्जनों ग्राम पंचायतों के बिल पत्रकारों के हाथ लगे हैं जिससे इस मामले में किये गए भारी भ्रष्टाचार की पोल खुली है अब जनप्रतिनिधियों और पत्रकारों ने इस मामले की शिकायत प्रदेश सरकार और लोकायुक्त में करने की तैयारी कर ली है ताकि भ्रष्टाचार के इस मामले की निष्पक्ष जाँच के बाद दोषियों पर कानूनी कार्यवाही हो सके। सूत्रों की माने तो जनपद पंचायत सीईओ अंजना नागर ने पूर्व में पदस्थ जनपद पंचायत में भी भ्रष्टाचार किया है और भ्रष्टाचार को लेकर विवादों में रही है जिसके बाद उन्होंने जनपद पंचायत बिजावर में भी भ्रष्टाचार का खेल खेल डाला।

Related posts

पुलिस ने मात्र 24 घंटे में किया कांग्रेस नेता की हत्या का खुलासा

Bundeli Khabar

लापरवाही: ऑक्सीजन वाल्व से छेड़छाड़ के कारण संकट में आई नवजातों की जान

Bundeli Khabar

भविष्य की आहट / डा. रवीन्द्र अरजरिया

Bundeli Khabar

Leave a Comment

error: Content is protected !!