26.2 C
Madhya Pradesh
April 13, 2024
Bundeli Khabar
Home » नहीं रहीं महारानी एलिजाबेथ द्वितीय: फैली शोक की लहर
विदेश

नहीं रहीं महारानी एलिजाबेथ द्वितीय: फैली शोक की लहर

ब्यूरो डेस्क
लंदन के साथ 54 देशों की महारानी का पदभार ग्रहण करने वाली महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का गत दिवस निधन हो गया, अचानक तबीयत बिगड़ने के चलते 96 बर्ष की उम्र में उनका निधन हो गया, जिससे पश्चिमी देशों के साथ-साथ पूरे विश्व में शोक की लहर फैल गई है।

महारानी एलिजाबेथ द्वितीय: एक नज़र –
एलिज़ाबेथ का जन्म लंदन में ड्यूक जॉर्ज़ षष्टम व राजमाता रानी एलिज़ाबेथ के यहाँ पैदा हुईं व उनकी पढाई घर में ही हुई। एलिज़ाबेथ को निजी रूप से पर घर पर शिक्षित किया गया था। उनके पिता ने 1936 में एडवर्ड अष्टम के राज-पाठ त्यागने के बाद राज ग्रहण किया। तब वह राज्य की उत्तराधिकारी हो गयी थीं। उन्होंने दूसरे विश्वयुद्ध के दौरान जनसेवाओं में हिस्सा लेना शुरु किया व सहायक प्रादेशिक सेवा में हिस्सा लिया। 1947 में उनका विवाह राजकुमार फिलिप से हुआ जिनसे उनके चार बच्चे, चार्ल्स, ऐने, राजकुमार एँड्रयू और राजकुमार एडवर्ड हैं।

6 फरवरी 1952 को अपने राज्याभिषेक के बाद एलिज़ाबेथ राष्ट्रकुल की अध्यक्ष व साथ स्वतंत्र देशों यूनाइटेड किंगडम, पाकिस्तान अधिराज्य, ऑस्ट्रेलिया, न्यूज़ीलैंड, कनाडा, दक्षिण अफ्रीका व सिलोन की शासक रानी बन गयीं। उनका राज्याभिषेक समारोह अपने तरह का पहला ऐसा राज्याभिषेक था जिसका दूरदर्शन पर प्रसारण हुआ था। 1956 से 1992 के दौरान विभिन्न देशों को स्वतंत्रता मिलते रहने से उनकी रियासतों की संख्या कम होती गई। वह विश्व में सबसे वृद्ध शासक और ब्रिटेन पर सबसे ज्यादा समय तक शासन करने वाली रानी है। 9 सितम्बर 2015 को उन्होंने अपनी परदादी महारानी विक्टोरिया के सबसे लंबे शासनकाल के कीर्तिमान को तोड़ दिया व ब्रिटेन पर सर्वाधिक समय तक शासन करने वाली व साम्राज्ञी बन गयीं।

एलिज़ाबेथ के शासन के दौरान यूनाइटेड किंगडम में कई महत्वपूर्ण बदलाव हुए, जैसे अफ्रीका की ब्रिटिश उपनिवेशीकरण से स्वतंत्रता, यूके की संसद की शक्तियों का वेल्स, स्कॉटलैंड, इंग्लैंड व आयरलैंड की संसदों में विभाजन इत्यादि। अपने शासनकाल के दौरान उन्होंने विभिन्न युद्धों के दौरान अपने राज्य का नेतृत्व किया, 8 सितंबर 2022 को उनका देहांत हो गया।

Related posts

इंसान की तरक्की अब माँ का दूध भी डिब्बों में

Bundeli Khabar

बहुमंजिला ईमारत गिरने से 43 लोगों की मौत

Bundeli Khabar

जुमे की नवाज के दौरान मस्जिद में विस्फोट, 100 की मौत

Bundeli Khabar

Leave a Comment

error: Content is protected !!